चीन की बढ़ती ताकत दुनिया के लिए खतरा: डोनाल्‍ड ट्रंप

चीन की बढ़ती सैन्य शक्ति पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चिंता जाहिर की है। उन्‍होंने कहा है कि कम्युनिस्ट चीन दुनिया के लिए एक खतरा है। इसके साथ ही ट्रंप ने चीन के साथ नरमी बरतने वाले अमेरिका के पिछले राष्ट्रपतियों को भी कोसा।

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के साथ एक मंच पर मौजूद डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा कि निश्चित रूप से चीन दुनिया की शांति के लिए खतरा है, वे अपनी ताकत इतनी तेजी से बढ़ा रहे हैं जितनी तेजी से दुनिया की कोई दूसरी ताकत नहीं कर रही है और इसके लिए वे अमेरिका के पैसे का इस्तेमाल कर रहे हैं।

चीन ने किया हमारी बौद्धिक संपदा पर कब्जा

राष्‍ट्रपति ट्रंप ने कहा कि उससे पहले के अमेरिकी राष्ट्रपतियों ने चीन को 500 बिलियन डॉलर अमेरिका से लेने दिया। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, उन लोगों ने चीन को हमारी बौद्धिक संपदा अधिकार और संपदा अधिकार पर कब्जा करने दिया।

बता दें कि चीन और अमेरिका के बीच लंबे समय से ट्रेड वार चल रहा है। राष्ट्रपति ट्रंप के मुताबिक दोनों देश एक व्यापार समझौते के बेहद करीब थे। ट्रंप ने कहा, हमने बड़ी सावधानी से काम किया, बौद्धिक संपदा अधिकार पर बात हुई, सभी विवादास्पद मुद्दों पर चर्चा हुई और तभी अंतिम क्षण में उन्होंने कहा कि वे इस मुद्दे पर सहमत नहीं हो सकते हैं। ट्रंप ने कहा कि वे बीजिंग के साथ व्यापार समझौते पर तभी दस्तखत करेंगे जब उन्हें ये लगेगा कि ये अमेरिका के हित में है।

चीन के साथ आंशिक समझौता नहीं करना चाहते हैं राष्‍ट्रपति ट्रंप

राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने जोर देकर कहा है कि उन्हें नहीं लगता है कि अगले साल के राष्ट्रपति चुनाव से पहले उन्हें चीन के साथ किसी तरह के व्यापार समझौते की जरूरत है। उन्‍होंने कहा कि वे चीन के साथ किसी तरह का आंशिक समझौता नहीं करना चाहते हैं, वे चाहते हैं कि जब समझौता हो तो पूरा हो।

बता दें कि अमेरिका ने पिछले साल मार्च में 250 अरब डॉलर के चीनी सामानों पर 25 फीसदी तक टैरिफ बढ़ा दिया था। इसके बाद बदले की कार्रवाई करते हुए चीन ने भी 110 अरब डॉलर के चीनी सामानों पर टैरिफ बढ़ा दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *