उन्नाव: गैंगरेप पीड़िता को पेट्रोल डालकर जिंदा जलाया

Gang rape

Gang rape

बीते दिनों हैदराबाद में महिला डाॅक्टर की हत्या ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया. अब इसी तरह के मामले को उन्नाव में अंजाम देने की कोशिश की गई. यहां के बिहार थाना क्षेत्र के हिंदू भाटन खेड़ा गांव में दुष्कर्म पीड़िता को गुरुवार सुबह पेट्रोल डालकर जलाने का प्रयास किया गया.

पीड़िता की हालत लगातार बिगड़ पर जाने पर उसे लखनऊ के श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां डॉक्टरों ने बताया है कि वह 90 फीसदी तक जल गई है और उसकी हालात बहुत गंभीर है. पुलिस ने पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

दिल्ली भेजी जा सकती है इलाज के लिए पीड़िता

सूत्रों से जानकारी मिली है कि पीड़िता को दिल्ली में किसी बड़े अस्पताल भेजा जा सकता है.

सिविल अस्पताल के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट (एमएस) डॉ आशुतोष दुबे ने बताया कि ‘पीड़िता को 90 फीसदी जली अवस्था में सुबह करीब सवा दस बजे अस्पताल लाया गया. उसे तुरंत बर्न वार्ड में भर्ती कराया गया है जहां डाक्टरों की एक टीम निरंतर उसकी निगरानी कर रही है. उसकी हालत बहुत ही गंभीर है. अभी कुछ भी कहना मुश्किल है.’

उनसे जब पूछा गया कि पीड़िता को क्या पीड़िता को दिल्ली भेजे जाने की संभावना है तो उन्होंने कहा कि इस बारे में मैं कुछ नही कह सकता हूं, इस बारे में प्रदेश शासन फैसला लेगा.

उन्होंने कहा कि प्लास्टिक सर्जन डॉ. प्रदीप तिवारी के नेतृत्व में डाक्टरों की टीम बेहतर इलाज प्रबंधन में लगी है .

दिप्रिंट को मिली जानकारी के मुताबिक, जमानत पर छूट कर आए दो आरोपियों ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर दुष्कर्म पीड़िता को जिंदा जलाने का प्रयास किया.पुलिस ने बताया कि पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है.  सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने युवती को गंभीर हालत में जिला अस्पताल भेजा, जहां उसकी गंभीर हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने लखनऊ रेफर कर दिया.

पांचों आरोपी गिरफ्तार

एसपी उन्नाव विक्रांत वीर ने मीडिया को बताया कि युवती की हालत गंभीर है. उसने बयान में आरोपियों के नाम बताए हैं. पुलिस ने आरोपी हरिशंकर त्रिवेदी, शुभम त्रिवेदी सहित पांचों को गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस सभी की कॉल डिटेल्स खंगाल रही है. दो नामज़द आरोपी गैंगरेप मामले में हाल ही में जेल से छूटकर आए हैं. एसपी ने बताया, ‘रेप मामले में कोर्ट के आदेश पर रायबरेली में केस दर्ज किया गया था. युवती को बचाने के लिए हरसंभव कोशिश की जा रही है.’

पीड़िता का इलाज उठाएगी सरकार

वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना का संज्ञान लेते हुए अधिकारियों को निर्देशित किया है कि पीड़िता को सरकारी खर्च पर हर सम्भव चिकित्सा सुविधा प्रदान की जाए. उन्होंने जिला प्रशासन एवं पुलिस के अधिकारियों को निर्देशित किया कि आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर अदालत से सजा दिलवाई जाए.

सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक मुख्यमंत्री ने लखनऊ मण्डलायुक्त और पुलिस महानिरीक्षक को तत्काल घटना स्थल का निरीक्षण कर आज शाम तक अपनी रिपोर्ट सौंपने को भी कहा है.

राष्ट्रीय महिला आयोग ने उत्तर प्रदेश पुलिस से मांगी रिपोर्ट

राष्ट्रीय महिला आयोग ने उत्तर प्रदेश पुलिस से एक दुष्कर्म पीड़िता को कथित तौर पर पांच लोगों द्वारा जलाए जाने की वारदात के बाद ऐसे मामलों में पुलिस द्वारा उठाए गए कदमों की विस्तृत कार्रवाई रिपोर्ट की मांग की है.

महिला को आग के हवाले करने में दुष्कर्म का दो आरोपी भी शामिल है.

एनसीडब्ल्यू की प्रमुख रेखा शर्मा ने पुलिस महानिरीक्षक ओ पी सिंह को पत्र लिखा है. पत्र में उत्तर प्रदेश पुलिस से मांग की गई है कि वह पिछले तीन वर्षों में महिलाओं के खिलाफ हुए इस तरह के जघन्य अपराधों और इस तरह के मामलों में मिली जमानत की एक विस्तृत रिपोर्ट दें.

शर्मा ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए कई तरह के कानूनों के लागू होने के बाद राज्य में महिलाओं के खिलाफ बढ़ रही घटनाओं से वह ‘परेशान’ हैं.

क्या है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक मार्च में युवती के साथ दुष्कर्म हुआ था. इसके बाद दो नामज़द आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था. युवती इसी मामले की पैरवी के लिए गुरुवार को रायबरेली जा रही थी. सुबह चार बजे के करीब गांव के बाहर खेत में दोनों आरोपी व उसके तीन साथियों ने उसके ऊपर पेट्रोल डालकर आग लगा दी. इसकी सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और पीड़िता को जिला अस्पताल पहुंचाया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Pin It on Pinterest