सरताज के पैटर्न से बचेगी मुंबई या होगा परमाणु धमाका ? सैक्रेड गेम्स 2 के राइटर ने खोला राज

सेक्रेड गेम्स 2 के राइटर ने बताई बात

हाल ही में सेक्रेड गेम्स का सेकंड सीजन रिलीज़ हुआ। अनुराग कश्यप और नीरज घैवान द्वारा निर्देशित सैक्रेड गेम्स 2 का इंतज़ार उनके फैंस को बेसब्री से था। पहला सीजन के हिट होने के बाद लोगों को उम्मीद थी कि दूसरा सीजन भी उतना ही अच्छा होगा लेकिन इस सीजन को स्लो पेस के चलते काफी आलोचना का सामना करना पड़ा। लेकिन शो के क्लाइमैक्स ने दर्शकों को तीसरा सीजन देखने की नई वजह दे दी है।

असल में शो का अंत काफी रोमांचक था. सैफ अली खान यानी सरताज न्यूक्लियर बॉम्ब तक पहुंचने में सफल रहता है लेकिन इस बॉम्ब को डिफ्यूज करने के लिए उसे एक पैटर्न की दरकार है और वो गुरुजी की किताब में अपने पिता के हैंडप्रिंट का पैटर्न बना देता है और अब सीजन 3 में ही पता चलेगा कि मुंबई न्यूक्लियर हमले से तबाह हो गई या सरताज मुंबई को बचाने में कामयाब रहा है।

हाल ही में एक इंटरव्यू में वरुण ग्रोवर ने सीरीज़ के क्लाइमैक्स को लेकर बात की है. उन्होंने इस शो के क्लाइमैक्स को लेकर दो थ्योरी दी हैं।

थ्योरी 1

मुंबई को बचा लिया गया है , क्योंकि दिलबाग का पैटर्न काम कर गया है। जब दिलबाग गुरुजी की किताब में अपना हाथ रख रहा था तो वो एकमात्र ऐसा शख्स था जिसे गुरुजी के खतरनाक प्लान पर भरोसा नहीं था। तो अगर गुरुजी को अपना प्लान फेल-सेफ बनाना था तो उन्हें पासकोड उस पेज पर रखना था जिस पर दिलबाग के हैंड प्रिंट थे। उस समय तक गुरुजी को पता नहीं था कि दिलबाग को बात्या और मैलकम मार गिराएंगे। उन्होंने दिलबाग को इसलिए मारा था ताकि वे किसी को इस प्लान और कोड को लेकर कुछ बता ना पाएं लेकिन सरताज इस कोड को क्रैक करने में कामयाब हो जाता है।

थ्योरी 2

सरताज भले ही दुनिया को बचा रहा हो लेकिन वो पूरी तरह गुरुजी की दुनिया और उनके कल्ट में शामिल हो चुका है। वो काफी बदल चुका है और कहीं ना कहीं गुरुजी के प्लान पर विश्वास करने लगता है। यही कारण है कि वो आखिर में अहं ब्रहास्मि बोलता है। गुरुजी ने गायतोंडे को इस काम के लिए इस्तेमाल किया था क्योंकि गुरुजी मुंबई के साथ ही गायतोंडे का बलिदान चाहते थे। जब आप एक नए युग में जाते हैं तो आपको अपने सबसे करीबी का बलिदान देना पड़ता है और गुरुजी के लिए वो गायतोंडे था। लेकिन गायतोंडे खुद को मार चुका है लेकिन सरताज के गुरुजी की सेना को जॉइन करने के बाद से ही वो बात्या का सबसे करीबी हो जाता है। बात्या कई मायनों में नई गुरुजी हैं। तो कहीं ना कहीं बात्या सरताज को ट्रिक करती है और वो बॉम्ब के पास जाता है और चूंकि नई दुनिया में जाने के लिए बलिदान की जरूरत है तो सरताज बात्या के लिए ये बलिदान दे देता है और सतयुग की रूपरेखा तैयार हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *